Downlod GS24NEWS APP
छत्तीसगढ़

युवक ने बड़े भाई का प्राइवेट पार्ट काटा:पिता की मौत के बाद अनुकंपा नियुक्ति को लेकर होता था झगड़ा

सक्ती जिले के स्टेट बैंक के सामने शनिवार को छोटे भाई ने पहले तो बड़े भाई को पत्थर से लहूलुहान कर दिया और उस पर भी मन नहीं भरा, तो उसके प्राइवेट पार्ट को ब्लेड से बेरहमी से काट दिया। मामला सक्ती थाना क्षेत्र का है। घटना के बाद बड़ा भाई खून से लथपथ तड़पता रहा, वहीं आरोपी मौके से फरार हो गया। आरोपी सीमांत यादव (26 वर्ष) को सोमवार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

आसपास के लोगों ने तुरंत पुलिस को सूचना दी। जिसके बाद सक्ती थाना पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस भी घायल की ये हालत देख हैरान रह गई। पुलिस ने तुरंत उसे सक्ती अस्पताल में भर्ती कराया, जहां घायल कुलदीप यादव (30 वर्ष) की गंभीर हालत को देखते हुए उसे बिलासपुर अपोलो हॉस्पिटल रेफर कर दिया गया। फिलहाल बिलासपुर अपोलो में कुलदीप का इलाज चल रहा है। उसकी हालत गंभीर बनी हुई है।

लहूलुहान हालत में मिला बड़ा भाई।
लहूलुहान हालत में मिला बड़ा भाई।

ASP गायत्री सिंह ने बताया कि दोनों भाई बाराद्वार रोड के रहने वाले हैं। उनका घर स्टेट बैंक के सामने है, जहां बड़ा भाई कुलदीप यादव, छोटा भाई सीमांत यादव और उनकी मां रहते हैं। दोनों भाइयों की शादी फिलहाल नहीं हुई है। इनके पिता रंजीत यादव की मौत 4 महीने पहले ही हुई है। वे शासकीय स्कूल में हेडमास्टर थे। छोटे भाई सीमांत को नशा करने की आदत है। उसे नशामुक्ति केंद्र भेजने की भी तैयारी घरवाले कर रहे थे। पुलिस ने बताया कि आसपास के लोगों और घरवालों से पूछताछ में पता चला है कि छोटी-मोटी बात को लेकर दोनों भाइयों में अक्सर झगड़ा होता रहता था।

बिलासपुर अपोलो में कराया गया भर्ती।
बिलासपुर अपोलो में कराया गया भर्ती।

शुक्रवार को सीमांत यादव ने शराब के नशे में किसी बात पर पहले तो अपनी मां से झगड़ा किया। इसके बाद उसकी मां कंचनपुर गांव चली गई। अगले दिन शनिवार रात करीब 11-12 बजे दोनों भाईयों ने शराब पी। इसके बाद सीमांत अपने बड़े भाई से पिता की मौत के बाद अनुकंपा नियुक्ति मिलने को लेकर लड़ाई करने लगा। दरअसल दोनों भाईयों ने मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है। हालांकि दोनों फिलहाल बेरोजगार थे। 4 महीने पहले ही पिता की मौत हुई है। बताया जा रहा है कि पिता को भी शराब पीने की लत थी, जिसके कारण हुई बीमारी से उसकी मौत हो गई थी। रिटायरमेंट से पहले मौत होने के कारण उसके बड़े बेटे कुलदीप यादव को पिता की जगह पर अनुकंपा नियुक्ति मिलने वाली थी।

Related Articles

Back to top button