Downlod GS24NEWS APP
छत्तीसगढ़

स्वामी आत्मानंद चाम्पा में स्वामी विवेकानंद जयंती एवं मकर संक्रांति उत्सव मनाया गया

 

आज दिनाँक 12 जनवरी को स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी मीडियम स्कूल चाम्पा में स्वामी विवेकानंद जयंती बडे हर्ष उल्लाश के साथ मनाया गया ।कार्यक्रम की शुरुआत माँ सरस्वती को पुष्पार्पण कर किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि श्रीमती अंजली देवांगन
पार्षद वार्ड नं. 1 स्वागत पश्चात स्वामी आत्मानंद की प्रचार्य श्रीमति श्वेता शुक्ला द्विवेदी ने बताया किस्वामी विवेकानंद के पद चिन्हों पे चलकर हमे अपनी भारतीय संस्कृति जिसे आज विदेशो में भी अपनाया जा रहा जुड़े रहना चाहिए ।आधुनिकता के होड़ में आज हम अपनी जड़ों से दूर जा रहे । विवेकानंद की जीवनी पर निबंध लेखन प्रतियोगिता जिसमे कक्षा 6 से 8 तक के बच्चों ने भाग लिया । उसके पश्चात वाद विवाद प्रतियोगिता हुई जिसका शीर्षक पुरातत्व शिक्षा नीति में सुधार था जिसमे बच्चो के द्वारा दिये गए तर्क सहज ही अकाट्य थे । कक्षा 11 वी की छात्रा प्रिंशी देवांगन ने पक्ष में कहा कि आज हम जो भी शिक्षा ग्रहन कर रहे यदि हम उसके जड़ो पे जाए तो हमारे वेद , भागवत गीता , हमारे शास्त्रों से ही हमे मीले है। जिसका पुरजोर प्रचार प्रसार देश विदेश में स्वामी विवेकानंद जी द्वारा किया गया । विपक्ष में काजल दुबे कक्षा 9थ ने कहा कि आज नई शिक्षा नीति से ही हम डिजिटल इंडिया में रह रहे जहा चीजे पहले से ज्यादा सुलझी ओर सरल हो गई है। प्रात्युष राठौर ,प्रियंका सोनी ने भी अपने तर्क प्रस्तुत किये ।
स्वामी विवेकानंद के रूप में प्रखर शर्मा , मानश राज कक्षा4 के छात्र ने बेहतरीन प्रस्तुति दी । प्रायमरी से बच्चों ने योगा करके दिन की शुरुवात की उसके बाद विवेकानंद जी के नारों से पूरा माहौल जोशपूर्ण हो गया।
मकर संक्रांति के उपलक्ष्य में आज बच्चो ने संक्रांति स्पेशल लंच जिसमे तिल से बने व्यंजन का स्वाद लिया।
संक्रांति व्यंजन प्रदर्शनी बच्चो द्वारा किया गया। अंत मे मुख्य अतिथि द्वारा बच्चो के साथ पतंग बाजी का भी आनंद लिया गया ।
छात्र छात्रों ने आज स्कूल में जमकर पतंगबाजी कर बहुत ही आनंदित हुए
इसके लिए सबने प्रचार्य का धन्यवाद दिया। स्कूल की छात्रा ग्रीन बेल्ट अनमोल स्वर्णकार और ब्लैक बेल्ट आयुषी साहू कक्षा 8,9 के द्वारा कराटे के करतब दिखाए गए उन्हें प्रचार्य द्वारा पुरुस्कृत कर सुपर हीरो की पदवी दिया गया । कार्यक्रम में आयी अतिथि ने प्रचार्य के इस प्रयास की सराहना की ओर कहा इस तरह के कार्यक्रम से बच्चे अपनी संस्कृती से जुड़े रहते है। अंत मे शिक्षिका दिव्या द्वारा आभार प्रदर्शन किया गया। बच्चो के साथ सभी शिक्षक शिक्षिकाएं उपस्थित रहे।

Related Articles

Back to top button