Downlod GS24NEWS APP
छत्तीसगढ़

नए टेंडर में लेटलतीफी:कैद से निकलने की प्रतीक्षा में सिटी बसें हो रहीं कंडम, पार्ट्स हो रहे चोरी

काेराेना काल के बाद पूरा देश अनलाॅक है, लेकिन करीब डेढ़ साल बाद भी सिटी बस सेवा का लाॅकडाउन जारी है। लाॅकडाउन से पहले काेरबा में चल रहे 38 नाॅन एसी व 8 एसी बसें प्रतीक्षा डिपाे में खुले में खड़े हैं। डिपाे के दरवाजे पर ताला लगा है और 24 घंटे सुरक्षा कर्मी तैनात है। नगर निगम के अधिकारियाें काे छाेड़कर बाकी सभी के लिए प्रवेश अनाधिकृत है। एक तरह से सिटी बसें प्रतीक्षा में कैद है। खुले में हाेने और खड़े-खड़े बसें माैसम की मार खाकर कंडम हाेती जा रही है।

एक अधिकारी के मुताबिक बसाें के लगातार खड़े हाेने के कारण मरम्मत के अभाव में टायर-ट्यूब, बैटरी, एसी समेत अन्य उपकरण खराब हाे चुके हैं। नए सिरे से बस चलाने के लिए सभी बसाें काे मरम्मत करानी पड़ेगी, जिसमें अब 1 कराेड़ से ज्यादा खर्च लगेगा।

अंधड़ आया ताे बस का टूटा शीशा: प्रतीक्षा की सुरक्षा कर रहे गार्ड अरविंद चौबे के मुताबिक बुधवार काे अंधड़ आने पर एक सिटी बस का कांच टूट गया। कुछ उपकरण भी तेज हवा में उड़ गए। प्रतिक्षा डिपाे के पीछे से चाेर घुसकर बसाें के कीमती उपकरण व बैटरी पार कर चुके हैं।

सेवा बंद हाेने का यात्री चुका रहे खामियाजा
राज्य शासन ने सिटी बस परिचालन का नए सिरे से टेंडर का निर्देश सभी जिलाें में दे दिया है, लेकिन काेरबा में पुराने ऑपरेटर के हाईकाेर्ट में याचिका लगे हाेने के कारण आगे की प्रक्रिया अटकी है। एक ताे पहले ही 2 साल से सिटी बस सेवा बंद है, ऊपर से अब नया टेंडर नहीं हाे पा रहा है। ऐसे में प्रक्रिया लंबी हाेती जा रही है। सस्ती-सुलभ सेवा बंद हाेेने का खामियाजा यात्रियाें काे ज्यादा किराया चुकाना पड़ रहा है।

पहले कराया गया था सर्वे, अब खर्च ज्यादा
राज्य शासन के निर्देश पर करीब 6 माह पहले सिटी बसाें के मरम्मत में आने वाले खर्च का ब्याैरा मांगा गया था। तब नगर निगम ने सर्वे कराकर मरम्मत के लिए अनुमानित खर्च 1 कराेड़ रुपए बताया था, लेकिन 6 माह के दाैरान माैसम की मार व अन्य कारण से अब मरम्मत में खर्च इससे ज्यादा संभावित है। वहीं मरम्मत कराने में ही 6 माह का समय लग जाएगा।

हाईकाेर्ट में मामला चल रहा, इसलिए हाे रही देरी
नगर निगम आयुक्त प्रभाकर पांडेय के मुताबिक सिटी बस ऑपरेटर ने हाईकाेर्ट में याचिका लगाई है जिसपर सुनवाई चल रही है। इसलिए देरी हाे रही है। स्टेट लेवल पर सिटी बस परिचालन के लिए नए ऑपरेटर तय किया जाना है। जिसपर आगे प्रक्रिया बढ़ेगी। तब तक इंतजार करना पड़ेगा।

दो साल से बंद सिटी बस सेवा कब हाेगी शुरू: हितानंद
भाजपा नेता व नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष हितानंद अग्रवाल ने सिटी बस सेवा काे लेकर प्रदेश सरकार समेत नगर निगम व प्रशासन से सवाल उठाया है। उन्हाेंने पूछा कि 2 साल के लंबे समय से बंद ये सभी बसे निगम के डिपाे में कंडम स्थिति में खड़ी है। बंद सेवा आखिर कब शुरू हाेगी। शहरवासियों को सुविधा बंद कर आम यात्रियों की जेब पर अतिरिक्त भार क्यों डाला जा रहा है? बस संचालन के टेंडर में क्यों लेटलतीफी हो रही है?

Related Articles

Back to top button