Downlod GS24NEWS APP
छत्तीसगढ़

कमर्शियल माइनिंग:करतला काेल ब्लाॅक की हाेगी नीलामी, यहां 1050 मिलियन टन काेयले का भंडार

कोरबा. देश में बढ़ती बिजली की मांग के बीच सरकार कोल इंडिया के नए खदानों के काम में तेजी और विस्तार परियोजनाओं में गति लाने पर जोर लगा रही है तो दूसरी तरफ कमर्शियल माइनिंग के तहत अगले चरण में देशभर के 124 कॉल ब्लॉकों की नीलामी की तैयारी भी शुरू कर दी है। ये सभी 124 कोल ब्लॉक छत्तीसगढ़ के अलावा झारखंड, पश्चिम बंगाल, मध्यप्रदेश, तेलंगाना, ओडिशा, महाराष्ट्र, राजस्थान, आन्ध्रप्रदेश व तमिलनाडू में स्थित है।

जिन काेल ब्लाॅकाें की नीलामी हाेनी है, उसमें प्रस्तावित काेल ब्लाॅक में कोरबा जिले का करतला काेल ब्लाॅक भी शामिल है। प्रस्तावित करतला काेल ब्लाॅक 21.3 वर्ग किलाेमीटर क्षेत्र में है। इसके दायरे में ग्राम करतला के अलावा तरफमजली, गेरांव और टिमनभावना सहित 4 गांव शामिल हैं।

करतला काेल ब्लाॅक का 60 प्रतिशत हिस्सा नाॅन फारेस्ट एरिया व 40 प्रतिशत हिस्सा फारेस्ट एरिया के अंतगर्त है। सर्वे रिपोर्ट के अनुसार इस काेल ब्लाॅक में 1050 मिलियन टन कोयले का भंडार अनुमानित है। करतला काेल ब्लाॅक में काेल भंडार की संभावनाओं काे ध्यान में रखते हुए यहां लगभग 39 बाेरहाेल किए गए हैं। अंतिम बार 31 अक्टूबर 2021 को बोरहोल किया गया था।

काेल ब्लाॅकाें की नीलामी प्रक्रिया इस तरह हाेगी
कोल ब्लॉकों के नीलामी के लिए इसी माह 20 जून से प्रक्रिया शुरू होगी। इसमें ऑनलाइन पंजीयन किया जाएगा। नीलामी के लिए दस्तावेजों की बिक्री 22 जून तक होगी। वही टेंडर जमा करने की आखिरी तारीख 27 जून तय की गई है। तकनीकी बाेली 28 जून काे खाेली जाएगी। 29 जून से 20 जुलाई तक बोलियों का निरीक्षण किया जाएगा। इसके बाद अागे की प्रक्रिया हाेगी।

पहले आपत्तियों के बाद 5 कोल ब्लाॅक सूची से हटाए थे
कमर्शियल माइनिंग के पहले चरण में जब नीलाम किए जाने वाले काेल ब्लाॅकाें की सूची जारी हुई थी , तब उसमें काेरबा व सीमा से लगे5 कोल ब्लॉक मोरगा साउथ, मोरगा-2,मदनपुर नार्थ, श्यांग, फतेहपुर ईस्ट भी शामिल थे जिनको लेकर आपत्तियों के कारण कोयला मंत्रालय ने सूची से हटा दिया था।

लेकिन इसकी जगह तीन अन्य कोल ब्लॉक डोलसरा, जरेकेला व झारपालम-तंगारघाट में कोल ब्लॉक चिन्हित किया था। जाे नीलामी सूची में शामिल किए गए हैं। हाथी रहवास क्षेत्र में कोल ब्लॉक खोलने को लेकर आपत्ति काे देखते हुए 5 काेल ब्लाॅक निरस्त किया गया था। करतला ब्लाक के उत्तरी क्षेत्र में लेमरू हाथी अभयारण्य प्रस्तावित है।

करतला ब्लाॅक में ये पहली माइंस हाेगी
करतला काेल ब्लाॅक काे नीलामी के लिए सरकार ने सूची में शामिल किया है। बता दें कि काेरबा जिले में के पांचाे ब्लाॅकाें (विकासखंड ) में अब तक करतला विकासखंड में ही काेई काेल माइंस नहीं है। इस ब्लाॅक में अधिकांश वन क्षेत्र हैं। अन्य ब्लाॅक की बात करें ताे काेरबा ब्लाॅक में भूमिगत खदान, रजगामार, मानिकपुर खदान पहले खुले थे। कटघाेरा ब्लाॅक के अंतर्गत कुसमुंडा, दीपका व गेवरा माइंस के अलावा कुछ भूमिगत खदान भी आते हैं। पाली ब्लाॅक में सराईपाली माइंसव पाेड़ी-उपराेड़ा में चाेटिया माइंस, रानी अटारी माइंस इसके अंतर्गत आते हैं।

छत्तीसगढ़ की इन खदानाें की हाेगी नीलामी
कमर्शियल माइनिंग के तहत छत्तीसगढ़ के लगभग 20 काेल ब्लाॅकाें की नीलामी जिसमें बरा, दतिमा, दतिमा, पंचभनी, शंकरपुर भटगांव द्वितीय विस्तार, सोंधिया, बारापारा, धरमपुर, ढोलेसारा, इस्टर्न पार्ट आफ गोरही महालोई, घुटरा, झरपालम थंगरघाट, करतला, मगुलाई, पिपराल, रामनगर, रिओंनिती, सोनहत ब्लाक ए इस्ट, सुरसा, वेस्टर्न पार्ट आफ गोरही महालोई काेल ब्लाॅक शामिल है। इसी तरह झारखंड के 22, बंगाल के 6 मध्यप्रदेश के 21, ओडीसा के 16 काेल ब्लाॅकाें की नीलामी की जाएगी।

Related Articles

Back to top button