छत्तीसगढ़

चाय पिलाओ नहीं तो नौकरी खत्म: गालीबाज लेखापाल की काली करतूत, पंचायत परिषद में शराब पीकर देता है गाली

खरोरा. नगर पंचायत में लेखापाल के पद मे पदस्थ प्रेसनजीत पांडे के खिलाफ एक मामला सामने आया है. जहां पंचायत में कार्यरत कर्मचारियों ने शिकायत की है कि लेखापाल प्रेसनजीत पांडे द्वारा गाली-गलौज किया जाता रहा है. साथ ही चाय ना पिलाने पर नौकरी से निकालने तक की धमकी दी जाती है.बता दें कि, नगर पंचायत में पदस्थ लेखापाल प्रेसनजीत पांडे नगर पंचायत की महिला कर्मचारियों के साथ अभद्र व्यवहार करता रहा हैं. वहीं बीते दिनों प्रेसनजीत पांडे ने पंचायत के कर्मचारी दुर्गेश यादव को चाय लाने के लिए शाम 6 बजकर 15 मिनट को फोन कर चाय मंगाई गई. वहीं दुर्गेश यादव उस समय छुट्टी के बाद घर जा चुका था, जिससे वह चाय नहीं ला सका. दूसरे दिन लेखापाल ने दुर्गेश यादव और राहुल महोबिया का नाम कार्य निष्ठा से हटा दिया. साथ ही नौकरी से निकालने की बात कही.

इतना ही नहीं गौर करने योग्य बात यह भी है कि, लेखापाल प्रेसनजीत पांडे अपने पसंदीदा कर्मचारियों के साथ मिलकर नगर पंचायत परिषद मे शराब का सेवन भी करता है और कार्यालय मे गाली-गलौज भी की करता है. वहीं इसकी शिकायत पंचायत कर्मचारियों ने धरसींवा विधायक अनीता योगेंद्र शर्मा, नगर पंचायत अध्यक्ष अनिल सोनी समेत मुख्य नगर पालिका अधिकारी रविंद्र शुक्ला से की है.

हालांकि, लेखापाल प्रेसनजीत पांडे ने मामले को लेकर कहा कि, मेरे ऊपर लगाए गए आरोप निराधार हैं. मेरे पास किसी को नौकरी में रखने या निकलने का पावर नहीं है. यह पावर सीएमो के पास है. आप उन्हीं से बात कर लीजिए.

Related Articles

Back to top button