Downlod GS24NEWS APP
छत्तीसगढ़

रामपुर चौकी प्रभारी कृष्णा साहू के द्वारा किये गये अवैध उगाही से सबंधित शिकायत के मामले मे हाईकोर्ट का आदेश,, डीजीपी को अतिरिक्त जबाव मय शपथपत्र के साथ में पेश करने के दिए निर्देश 

 

 

कोरबा से विजय मेश्राम की रिपोर्ट। घटना दिनांक 14/08/ 2022 को रात्रि 7 बजे की है, टीपी नगर मकान से विजय कुमार वर्मा पिता जमुना प्रसाद वर्मा के मकान के अंदर जबरन घुसकर रामपर चौकी मे पदस्थ आरक्षक विकास कोसले व गंगाराम डाण्डे के द्वारा घुसकर उसके दुकान मे रखे 40 किलो ताम्बा के अनपयोगी तार को चोरी का है बोलकर इसका बिल नहीं है तुम्हारे पास कहते हुए ताम्बे के तार को जबरन जप्त कर अपने बेलोनो वाहन मे विजय कुमार वर्मा को रामपुर चौकी मे ले जाकर चौकी के लॉकप मे बिना कपडो के ही बंद कर दिया है तथा उनकी पत्नि व साले भी आये जिसपर विजय कुमार वर्मा की पत्नि व साले को विजय वर्मा को 200000/- दो लाख रुपये दिये जाने पर कार्यवाही नही किये जाने की बात कही और दिये जाने पर जेल भेज देने दुकान बंद करवाने और 3 माह जमानत नही होने देने का डर दिखाकर रात्रि मे 200000/- दो लाख रुपेय कानून व जेल का भय दिखाकर घर से मांगा कर अवैधानिक रूप से प्राप्त कर लिया गया है पश्चात विजय कुमार वर्मा के द्वारा सारी घटना की शिकायत जिला पुलिस अधिक्षक महोदय व आईजी व डीजीपी से की किन्तु किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही पुलिस प्रशासन के द्वारा आरोपी पुलिस वालो के विरुद्ध मे नही किये जाने पर विजय कुमार वर्मा के द्वारा अपने अधिवक्ता कमलेश साहू के द्वारा आरोपी पुलिस वालो के विरुद्ध मे माननीय मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी कोरबा के समक्ष धारा दंड प्रक्रिया संहिता 156 (3) व आईपीसी की  धारा 384 385 120 बी 34 भादवि के अर्न्तर्गत परिवाद न्यायालय अपराध धारा के तहत् में मामला पेश किया। जिसकी जानकारी रामपूर चौकी प्रभारी कृष्णा साहू को होने पर उसके द्वारा अपने आरक्षक के माध्यम से विजय कुमार को डराने धमकाने तथा मामला वापस लेने का दबाव बनाने लगा।  जब विजय कुमार वर्मा के द्वारा मामले को वापस लेने से इंकार किये जाने पर उसे चोरी के मामले में जेल भेज देने का डर दिखाकर धारा 91 द.प्र स का नोटिस जारी किया गया जिसपर विजय कुमार वर्मा के द्वारा मामले से सबंधित सारे तथ्यों का उल्लेख करते हुए माननीय उच्च न्यायालय की शरण ली जहाँ पर माननीय उच्च न्यायलय ने मामले पर संज्ञान लेते हुये आरोपी पुलिस वालो के कृत्यों के तारत्मयम मे विजय कुमार को जारी नोटिस की कार्यवाही  को अवैधानिक रूप से धारा 91 द. प्र. स को किस प्राधिकार से जारी किया गया है पर हाई कोर्ट ने डीजीपी को अतिरिक्त जवाब मय शपथपत्र के साथ मे पेश करने आदेश जारी किया है।  तथा शिकायतकर्ता के विरुद्ध किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नही किये जाने का भी आदेश जारी किया है और मामले की सुनवाई दिनांक 20/10/22 को नियत की है।

 

गौरतलब है की पूर्व में भी सीएसईबी चौकी के प्रभारी रहने के दौरान  कृष्णा साहू के द्वारा आम जनता से अवैध उगाही और झूठे मामले में जेल भेज देने के लगे थे आरोप,,फिर भी जिला पुलिस प्रशासन किस आशय और ध्येय से कोरबा जिले के दो दो थाना का प्रभार देकर महिमा मंडित किया है,,जबकि उपरोक्त प्रभारी के विरुद्ध के माननीय उच्च न्यायालय बिलासपुर के समक्ष दो दो मामले भ्रष्टाचार से संबंधित लंबित रहे है।

 

 

अब देखना है कि जिला पुलिस प्रशासन रामपूर चौकी प्रभारी कृष्णा साहू के कृत्यों पर किस प्रकार का रूख अपनाती है चुकि रामपूर चौकी प्रभारी कृष्णा साहू के प्रति जिला पुलिस अधिक्षक का पूर्व से ही रूख ठण्डा रहा है।  लिहाजा यह देखना,  दिलचस्प होगा कि पुलिस अधिक्षक कोरबा व डीजीपी,, के द्वारा चौकी प्रभारी कृष्णा साहू व मामले से सबंधित आरक्षको को बचाएंगे या निपटाएंगे ।

 

 

Related Articles

Back to top button