छत्तीसगढ़

गहने साफ करने के नाम पर आभूषणों पर ही हाथ साफ कर रहे लूटेरे, बुजुर्ग दंपती को बना रहे निशाना

जांजगीर-चांपा. जिले में पुलिस की चुनौती कम होने का नाम नहीं ले रही है. लगातार बढ़ रहे चोरी के मामले पुलिस विभाग के लिए सिर दर्द बना हुआ है. इस बीच पुलिस के लिए एक और नई चुनौती सामने आई है. जिले में ठग गिरोह की सक्रियता बढ़ गई है. जो गहने चमकाने के नाम पर गहने पार कर देता है. अब तक दो जगहों से ऐसे मामले सामने आ चुके हैं. जिसमें पहला मामला महीने भर पहले सक्ती थाना क्षेत्र से सामने आया था. वहीं दूसरा मामला दो दिन पहले अकलतरा से सामने आया है. दोनों ही मामलों में फिलहाल पुलिस के हाथ खाली हैं.

अकलतरा थाना क्षेत्र की बुजुर्ग महिला से गहने चमकाने के नाम पर सोने के कंगन लूट कर भागने का मामला सामने आया था. जिसे दो अज्ञात व्यक्तियों ने अंजाम दिया है. दोनों व्यक्ति बर्तन चमकाने वाले बनकर आए थे और कंपनी का हवाला देकर तांबे के लोटे को चमकदार बनाकर भरोसा जीता, तभी दूसरा व्यक्ति सोने के कंगन साफ करने की बात करने लगा और गर्म पानी लाने के लिए बोला. आरोपी बुजुर्ग महिला के साथ किचन तक पहुंच गया और गर्म पानी में हल्दी पाउडर डालने को बोला. उसके बाद सैंपल के लिए पहले एक कंगन को साफ किया. फिर जैसे ही महिला ने चारों कंगन निकाले तब आरोपी महिला के हाथ से कंगन लूटकर भाग गया. इस दौरान दूसरा व्यक्ति बाइक चालू कर तैयार खड़ा था. जिसमें आरोपी 5 तोले के 4 कंगन लेकर भाग खड़े हुए. कंगन की कीमत करीब 3 लाख रुपये बताई जा रही है.

अकलतरा थाना क्षेत्र की बुजुर्ग महिला से गहने चमकाने के नाम पर सोने के कंगन लूट कर भागने की घटना सामने आया है घटना को दो अज्ञात व्यक्तियों ने अंजाम दिया है दोनों व्यक्ति बर्तन चमकाने वाले बनकर आये थे और कंपनी का हवाला देकर तांबे के लोटे को चमकदार बनाकर भरोसा जीता तभी दूसरा व्यक्ति सोने के कंगन साफ करने की बात करने लगा और गर्म पानी लाने के लिए बोला और बुजुर्ग महिला के साथ किचन तक पहुँच गया और गर्म पानी में हल्दी पाउडर डालने को बोला उसके बाद सेम्पल के लिए पहले एक कंगन को साफ किया फिर जैसे ही महिला ने चारों कंगन निकाले व्यक्ति के द्वारा महिला के हाथ से लूटकर भाग गया इस दौरान दूसरा व्यक्ति बाइक चालू कर तैयार खड़ा था और दोनों व्यक्ति फाटक की ओर भाग गए लूटकर भागे सोने के 4 नग कंगन 5 तोले के थे जिसकी कीमत लगभग 3लाख रुपये है

Related Articles

Back to top button