Downlod GS24NEWS APP
छत्तीसगढ़

ओमिक्रॉन का सब-वैरिएंट BA.2.12.1:भारत और अमेरिका को बनाया शिकार, म्यूटेशंस डेल्टा वैरिएंट की तरह, जानिए ये कितना खतरनाक

भारत में कोरोना के मामले एक बार फिर से बढ़ रहे हैं। पिछले 24 घंटे में 2,527 नए केसेज और 33 मौतें दर्ज की गईं। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, देश में तेजी से फैलते संक्रमण के पीछे ओमिक्रॉन के नए सब-वैरिएंट (BA.2.12.1) का हाथ है। जहां स्वास्थ्य मंत्रालय ने अब तक BA.2.12.1 के डिटेक्ट होने की पुष्टि नहीं की है, वहीं धीरे-धीरे वैज्ञानिक इस सब-वैरिएंट को लेकर चिंता जाहिर कर रहे हैं।

सरल भाषा में, कोरोना का वैरिएंट ओमिक्रॉन है, ओमिक्रॉन का सब-वैरिएंट BA.2 है और BA.2 का सब वैरिएंट BA.2.12.1 है। यानी, ये भी ओमिक्रॉन की फैमिली का सदस्य ही है। हाल ही में अमेरिकी स्वास्थ्य एजेंसी सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) ने न्यूयॉर्क समेत कुछ शहरों में ओमिक्रॉन के BA.2.12.1 और BA.2.12 सब-वैरिएंट्स मिलने की पुष्टि की है।

मनी कंट्रोल की रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय वायरोलॉजिस्ट शाहिद जमील का कहना है कि फिलहाल BA.2.12.1 अमेरिका के उत्तर पूर्वी इलाकों में तेजी से फैल रहा है। हालांकि यह BA.2 के दूसरे वैरिएंट्स जितना ही संक्रामक है।

जमील कहते हैं कि ये सभी सब-वैरिएंट्स वायरस की ओरिजिनल स्ट्रेन से औसतन 12 गुना ज्यादा संक्रामक हैं। जहां ओमिक्रॉन ओरिजिनल स्ट्रेन से 10 गुना ज्यादा तेजी से फैलता है, वहीं BA.2 के सब-वैरिएंट्स BA.1 की तुलना में 20% ज्यादा संक्रामक हैं।

मनी कंट्रोल से बात करते हुए वैज्ञानिकों ने बताया कि नया सब वैरिएंट काफी ज्यादा संक्रामक है और कोरोना से रिकवर हो चुके मरीजों पर दोबारा अटैक करने में सक्षम है।

BA.2.12.1 में L452Q नाम का एक म्यूटेशन भी पाया गया है, जो दूसरी लहर के दौरान डेल्टा वैरिएंट में पाया गया था। हैरानी की बात यह है कि यह म्यूटेशन BA.2 में नहीं पाया गया था। इस वजह से BA.2.12.1 ने हेल्थ एक्सपर्ट्स की चिंता बढ़ा दी है।

Related Articles

Back to top button