Downlod GS24NEWS APP
छत्तीसगढ़

हसदेव बांगो परियोजना की मुख्य नहर फूटी:100 एकड़ फसल बर्बाद, घरों में घुसा पानी;किसानों की शिकायत के बावजूद नहीं हुई सुनवाई

जांजगीर-चांपा में सोमवार तड़के हसदेव बांगो परियोजना की मुख्य नहर फूटने से करीब 2 किमी के दायरे में पानी भर गया है। इसके चलते खेत में खड़ी 100 एकड़ से ज्यादा फसल बर्बाद हो गई। तड़के पानी लोगों के घरों में घुसा तो हड़कंप मच गया। उस समय पूरा गांव सो रहा था। खास बात यह है कि करीब 7 दिन पहले ही किसानों ने नहर से पानी रिसने की शिकायत की थी, लेकिन अफसर-कर्मचारियों ने अनसुना कर दिया। आज भी सूचना मिलने के बाद दोपहर में अफसर मौके पर पहुंचे।

जानकारी के मुताबिक, पामगढ़ क्षेत्र के बार गांव में हसदेव बांगो परियोजना के तहत मुख्य नहर का निर्माण किया गया है। इस नहर से धान की खरीफ फसल के लिए पानी छोड़ा जा रहा था। इसी दौरान सोमवार तड़के करीब 3.30 बजे तेज आवाज के साथ नहर फूट गई। इसके चलते पूरे इलाके में पानी फैल गया। पानी की रफ्तार इतनी तेज थी कि खेतों को पार करता हुआ ग्रामीणों के घर में घुस गया। इसके बाद हड़बड़ाए ग्रामीण घर से बाहर निकल कर भागे। इसके बाद ग्रामीणों को नहर फूटने का पता चला।

ग्रामीणों ने बताया कि नहर फूटने से आए पानी के चलते 30 से 40 किसानों की करीब 100 एकड़ फसल बर्बाद हो गई है। किसान इसके लिए नहर विभाग पर लापरवाही का आरोप लगा रहे हैं। किसानों का कहना है कि घटिया निर्माण की वजह से यह आफत आई है। वहीं गांव के किसान शिवनारायण कश्यप ने बताया कि अधिकारियों को सप्ताह भर पहले ही इस बात की सूचना दे दी गई थी कि बार गांव के पास मुख्य नहर से पानी रिस रहा है, कभी भी बड़ी घटना घट सकती है, लेकिन शिकायत को अनसुना कर दिया गया।

Related Articles

Back to top button