छत्तीसगढ़देश-विदेश

फटी बच्चेदानी, तिरछा बच्चे करे ऋिटिकल सर्जरी कर डॉक्टर ने बचाई जच्चा बच्चा की जान

जांजगीर चांपा। दादी सती हॉस्पिटल एण्ड मैटर्निटी सेंटर के डॉक्टरों की टीम ने एक बेहद क्रिटिकल ऑपरेशन कर जच्चा बच्चा दोनों की जान बचाई। जिसने भी इस बारे में सुना डॉक्टरों को बिना धन्यवाद दिए नहीं रह सका। फिलहाल जच्चा बच्चा दोनों सुरक्षित बताए जा रहे हैं। लोग डॉक्टरों की टीम के चमत्कार जमकर सराहना कर रहे है. अस्पताल के चीफ सर्जन डॉक्टर हेमेंद्र जायसवाल ने बताया कि जब बच्चा गर्भ में मल त्याग कर देता है। तो उसे मेडिकल लैंग्वेज में निको Niconium कहा जाता है। ऐसे में अगर उसे जल्दी से बाहर नहीं निकाला जाए, तो बच्चे की जान को खतरा हो सकता है। इस बच्चे की धड़कन भी लगातार ऊपर नीचे हो रही थी। जिससे उसकी जान जाने का खतरा बना हुआ था। इसके अलावा मरीज की बच्चेदानी भी फट चुकी थी, और बच्चा तिरछा हो गया था।

देर रात होने के बाद भी उन्होंने तत्काल डॉक्टर्स की टीम को बुलाया और ऑपरेशन का अरेंजमेंट किया गया। तकरीबन 3 घंटे तक चले ऑपरेशन के बाद पूरी सफलता के साथ बच्चे की जान बचाई. फटी हुई बच्चेदानी को भी रिपेयर किया गया. क्योंकि यह पहला बच्चा था। इसलिए डॉक्टर ने मेहनत कर तकरीबन 3 1 इंच फटी बच्चेदानी को सफलतापूर्वक रिपेयर | किया। इस क्रिटिकल ऑपरेशन की पूरे शहर में चर्चा हो रही है और सभी ने डॉक्टर्स की । टीम को सफल ऑपरेशन के लिए बधाई दी है

Related Articles

Back to top button