Downlod GS24NEWS APP
छत्तीसगढ़

UPSC में CG के स्टूडेंट्स का कमाल:कांग्रेस नेता की बेटी ने हासिल की 45वीं रैंक; प्रदेश के बेटे भी पीछे नहीं

सोमवार को यूपीएससी 2021 के परिणाम घोषित कर दिए गए। छत्तीसगढ़ के युवाओं ने इस बार कमाल कर दिया है। अभी तक 6 युवाओं के IAS-IPS-IFS बनने लायक रैंक हासिल करने की जानकारी है। रायपुर की श्रद्धा शुक्ला ने इस परीक्षा में ऑल इंडिया 45 वीं रैंक हासिल की है। श्रद्धा अब IAS अफसर बन सकती हैं। श्रद्धा छत्तीसगढ़ के कांग्रेस नेता सुशील आनंद शुक्ला की बेटी है। सुशील आनंद शुक्ला छत्तीसगढ़ कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष हैं। परिणाम जारी होने के बाद राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी श्रद्धा शुक्ला को बधाई दी है।

यूपीएससी के इस एग्जाम में कामयाबी हासिल करने वाले रायपुर के कुछ और भी युवा हैं, जिनमें आईएएस और आईपीएस के बच्चे शामिल हैं। आईएएस रेणु पिल्ले के बेटे अक्षय पिल्ले ने भी इस एग्जाम में सफलता हासिल की है। रायपुर के अभिषेक अग्रवाल को भी इस एग्जाम में कामयाबी मिली है। अभिषेक के पिता उमेश अग्रवाल भी छत्तीसगढ़ में पदस्थ आईएएस अफसर हैं। इनके साथ ही प्रखर चंद्राकर, प्रतीक अग्रवाल और मयंक दुबे ने ऐसे रैंक हासिल कर लिए हैं कि उन्हें एलीट सर्विसेस का अवसर मिलना तय है।

यूपीएससी ने सिविल सर्विस मेंस परीक्षा 2021 का रिजल्ट पिछले वर्ष 17 मार्च को जारी किया गया था। मेंस परीक्षा में सफल उम्मीदवारों को पर्सनल इंटरव्यू के लिए बुलाया गया था। पर्सनल इंटरव्यू 5 अप्रैल से 26 मई तक आयोजित किया गया था। यूपीएससी इस भर्ती के माध्यम से अफसरों के 712 पदों को भरेगा।

रायपुर में माहौल है, तैयारी कीजिए, सफलता मिलेगी

श्रद्धा शुक्ला कहती हैं कि उनका टॉप-50 में आने का प्रयास जरूर था, लेकिन सोचा नहीं था कि सफल होगा। पहले भी IAS के लिए प्रयास किया था। फिलहाल PNT फाइनेंस सर्विस में ज्वाइन कर लिया है। वहां ट्रेनिंग चल रही है। अगला अटैम देना पड़ेगा यह सोचकर रायपुर आई थी। 10 जून का एग्जाम है, लेकिन भगवान की दया से अब देना नहीं पड़ेगा। वहीं बाहर जाकर तैयारी करने वाले प्रतिभागियों के लिए श्रद्धा कहती हैं कि रायपुर में पूरा माहौल है।

हमारे दिमाग में है कि रायपुर में तैयारी नहीं कर सकते
भारतीय सिविल सेवा सर्विस में 45वीं रैंक हासिल करने वाली श्रद्धा शुक्ला कहती हैं सबसे बड़ा चैलेंज हमारे दिमाग में है कि छत्तीसगढ़ में, रायपुर में बैठकर तैयारी नहीं की जा सकती है। मैंने अपनी पूरी प्रिप्रेशन रायपुर में की है। इसे दिमाग से निकालना होगा कि रायपुर में रहकर तैयारी नहीं हो सकती है। रायपुर में ही रहकर तैयारी कीजिए। यहां माहौल पूरी तरह अच्छा है। उन्होंने कहा कि जो प्रतियोगी कोचिंग करना चाहते हैं तो यह खुद पर निर्भर करता है।

इतनी बड़ी पोस्ट की इच्छा करते हैं तो खुद पर कंट्रोल जरूरी है
श्रद्धा कहती हैं कि उनके लिए कोई पढ़ाई के घंटे निर्धारित नहीं थे। बस पढ़ती थी, सारा दिन पढ़ती रहती थी। ऑनलाइन पढ़ाई और मोबाइल फ्रेंडली होने पर श्रद्धा कहती हैं कि वह ऑनलाइन पढ़ना प्रेफर नहीं करती। उन्हें पेन और पेपर से ही पढ़ना पसंद है। वह बताती हैं कि उनके कई फ्रेंड्स हैं, जिनका नाम लिस्ट में है और उन्होंने ऑनलाइन ही पढ़ाई की है। श्रद्धा कहती हैं कि आप इतनी बड़ी पोस्ट के लिए इच्छा रख रहे हैं कि आपको IAS बनना है, तो खुद पर सेल्फ कंट्रोल होना चाहिए।

राज्य में रहकर यहां के लोगों की सेवा करना चाहती हूं
श्रद्धा कहती हैं कि छत्तीसगढ़ में ही रहकर राज्य की सेवा करना चाहती हैं। उनका पहला प्रेफरेंस छत्तीसगढ़ है। अगर मुझे मौका मिलेगा तो बहुत सारे एरिया हैं जिसमें काम करना चाहूंगी। पहले तो एजुकेशन है। यहां सभी टॉप संस्थान है, लेकिन उसमें हम आगे नहीं आते हैं। एजुकेशन सेंटर में जरूर काम करना चाहूंगी। इसके अलावा नक्सलिज्म मुद्दे पर भी अपना सहयोग देना चाहूंगी।

मयंक की 102, मयंक की 147 और प्रतीक 156 वीं रैंक

छत्तीसगढ़ के युवाओं ने इस बार UPSC में शानदार प्रदर्शन किया। लंबे समय तक धमतरी कलेक्टर के रीडर रहे ओपी चंद्राकर के पुत्र प्रखर चंद्राकर ने इस परीक्षा में 102 रैंक प्राप्त की। रायगढ़ जिले के टायंग गांव में रहने वाले मयंक दुबे ने इस परीक्षा में 147 वीं रैंक हासिल की है तो रायपुर नहरपारा के प्रतीक अग्रवाल ने 156 वीं रैंक। ये सभी एलीट सर्विसेज के लिए चयनित हो जाएंगे। प्रतीक पूर्व पार्षद ममता सुभाष अग्रवाल के बेटे हैं।

​​​​​​​

शीर्ष तीन रैंक पर लड़कियां

कैंडिडेट आधिकारिक वेबसाइट upsc.gov.in पर जाकर परिणाम देख सकते हैं। श्रुति शर्मा ने फाइनल रिजल्ट में ऑल इंडिया नंबर एक रैंक हासिल किया है। इस साल सभी शीर्ष तीन रैंक पर लड़कियों ने कब्जा किया है। अंकिता अग्रवाल और गामिनी सिंगला ने दूसरा और तीसरा स्थान हासिल किया है। इंडिया टॉपर श्रुति सेंट स्टीफंस कॉलेज और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय की पूर्व छात्र हैं और जामिया मिलिया इस्लामिया आवासीय कोचिंग अकादमी में यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रही थीं।

Related Articles

Back to top button