छत्तीसगढ़

*”वनांचल आदिवासी विकासखंड नगरी के शालाओं में मनाया गया विश्व हिन्दी दिवस”*

*"हिन्दी जनमानस की भाषा है , हिन्दी को बनाएं सिरमौर"- बीईओ सतीश प्रकाश सिंह* 

नगरी-धमतरी / वनांचल स्थित आदिवासी विकासखंड नगरी के शासकीय-अशासकीय शालाओं में 14 सितम्बर को विश्व हिन्दी दिवस मनाया गया | शासकीय कन्या नगरी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय तथा शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सिहावा में आयोजित “राष्ट्रीय हिंदी दिवस” के कार्यक्रम में उपस्थित विकासखंड शिक्षा अधिकारी सतीश प्रकाश सिंह ने विद्यार्थियों को शुभकामनाएं देते हुए हिंदी भाषा के महत्व को बताया | उन्होंने कहा की पूरे देश में 14 सितम्बर को “राष्ट्रीय हिन्दी दिवस” मनाया जाता है | इस दिन ही साल 1949 को विधान सभा में एक मत से हिन्दी को राजभाषा घोषित किया गया था | हिन्दी को हर क्षेत्र में प्रसारित करने के लिए पूरे भारत में 14 सितंबर को हर साल हिन्दी दिवस के रूप में मनाया जाता है | बी.ई.ओ. श्री सिंह ने बताया कि हिन्दी जनमानस की भाषा है । आज हिंदी विश्व में सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषाओं में से एक है । विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भी हिन्दी भाषा का दबदबा बढ़ा है | आज हिन्दी भाषा को पूरे विश्व भर में सम्मान के नजरों से देखा जाता है | शासन द्वारा हिन्दी भाषा को बढ़ावा देने के उद्देश्य के साथ सभी सरकारी कार्यालयों और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों को भी हिंदी का प्रयोग करने के लिए कहा जाता है | इस दिन लोगों को प्रेरित करने के लिए हिंदी भाषा अवॉर्ड भी दिया जाता है । हिन्दी दिवस को पूरे एक हफ्ते तक उत्सव के रुप में विभिन्न कार्यक्रमों के रुप में आयोजित किया जाता है, जिसे हिन्दी पखवाड़ा के नाम से जानते हैं. विकासखंड शिक्षा अधिकारी नगरी सतीश प्रकाश सिंह ने हिन्दी भाषा में अभिरूचि रखने वाले विद्यार्थियों का उत्साह बढ़ाया तथा शालाओं के शिक्षक-शिक्षिकाओं को “राष्ट्रीय हिंदी दिवस” की शुभकामनाये प्रदान किये | शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के कार्यक्रम में प्राचार्य मीनाक्षी रामटेके, व्याख्याता किरण साहू, अनिता सोम सहित शिक्षक -शिक्षिकाएं तथा शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सिहावा के कार्यकम में व्याख्यातागण सीताराम साहू, मुकेश यदु, नीलकमल ठाकुर, रश्मि यदु सहित शिक्षक -शिक्षिकाएँ एवं छात्र -छात्राएं उपस्थित थे।

Related Articles

Back to top button